collection of best urdu shayari

Huge Collection Of Best Urdu Shayari

Best collection of huge urdu shayari that you don’t want to miss are provided. You will surely enjoy by going through this article. These Urdu shayari will make your day. If you don’t want to miss urdu shayari then stay tuned to this website as we update this post on regular basis.

Urdu Shayari

In the world of shayari, Urdu Shayari is most loved one and is used in suitable situations. Make your day by reading below urdu shayari.

शायरी खुदखूशी का धंधा है, अपनी ही लाश अपना ही कंधा है,,,

आईना बेचता फिरता है शायर, उस शहर में जो शहर ही अंधा है….

शायरी का बादशाह हुं और कलम मेरी रानी, अल्फाज़ मेरे गुलाम है, बाकी रब की महेरबानी ।

बेवजह यूँ शायरी कौन लिखता है, हर कोई अपने दर्द उकेरता है…!!

सुनसान सी लग रही हैं,,, आज ये शायरों की बस्ती…. क्या किसी के दिल में,,, अब दर्द नहीं रहा…………….

रूह तक अपनी बात पहुंचाने का दम रखते हैं,,, शायर है हम सीधा दिल में कदम रखते हैं…

ना बात कर पीने पिलाने की,,, मेरा ग़ज़लों में मयखाना है ll मैं शायर भी पुराना हूँ,, और मेरा तज़ुर्बा भी पुराना है ll

अभी लिखी है ग़ज़ल तो अभी दीजिये ” दाद ” …. वो कैसी तारीफ जो मिले मौत के ” बाद ” …..

मै मतलबी नही,,, जो साथ रहने वालो को धोखा दे दूँ,,,, बस मुझे समझना हर किसी के बस की बात नही।

ये दुनियाँ वाले भी बड़े अजीब होते है,,,, कभी दूर तो कभी करीब होते है…. दर्द ना बताओ तो हमे कायर कहते,,, और दर्द बताओ तो हमे शायर कहते है

हर रोज आजकल मैं सरेआम बिकता हूँ,,, मैं ज़मीर हूँ साहब आजकल कहां टिकता हूँ।

हमें शायर समझ के यूँ नजर अंदाज मत करिये,,,, नजर हम फेर ले तो हुस्न का बाजार गिर जायेगा।

कोई खरीद ले गजले मेरी कोई सोच में तो हो,,,, जनाब शायर से सौदा करने होश में तो हो

तहजीब की मिसाल गरीबों के घर पे है,,,, दुपट्टा फटा हुआ है मगर उनके सर पे है।

जो फकीरी मिज़ाज रखते हैं, वो ठोकरों में ताज रखते हैं ,

जिन को कल की फिकर नहीं, वो मुठ्ठी में आज रखते हैं..

ज़िंदगी एक रात है, जिसमें ना जाने कितने ख्वाब हैं, जो मिल गया वो अपना है, जो टूट गया वो सपना है…..

“एक रात में सौ बार जला और बुझा हूँ,,,, मुफ़लिस का दिया हूँ मगर आँधी से लड़ा हूँ..!!”

हम तो जोड़ना जानते है,,,, तोड़ना सीखा ही नहीं….!! खुद टूट जाते है अक्सर लेकिन,,,,*किसी को छोड़ना सीखा ही नहीं….!l

अब मेरा कोई अपना नहीं है, चलो अच्छा है, कोई खतरा नहीं है…!!

जान जब प्यारी थी तब दुश्मन बहुत थे,,,,, अब मरने का शौक है तो कोई कातिल नहीं मिलता !!

Poetry In Urdu

Poetry in urdu is placed below in the form of quotes. Make your day by reading the below poetry in urdu and share with your friends, family and love.

❛तकदीर ने चाहा जैसे ढल गये हम, बहुत संभल के चले फिर भी फिसल गये हम। किसी ने विश्वास तोड़ा किसी ने दिल, और लोगों को लगता है की बदल गये हम।❜

तुम्हारा सिर्फ हवाओं पे शक़ गया होगा. चिराग़ खुद भी तो जल-जल के थक गया होगा..

जीवन में एक बार जो फैसला कर लिया तो फिर पलट कर मत देखो, क्योंकि,,, पलट-पलट कर देखने वाले इतिहास नहीं बनाते….

जिस अफ़साने को अंजाम तक ले जाना मुमकिन ना हो। उसे एक खूबसूरत सा मोड़ देकर छोड़ देना ही अच्छा है।

मेरा झुकना और तेरा खुदा हो जाना,,, अच्छा नहीं है इतना भी बड़ा हो जाना।

ये बन्द कराने आये थे तवायफों के कोठे,,, मगर सिक्कों कि खनक देख कर ख़ुद ही मुजरा कर बैठे।

कश्तियाँ गलतफहमियों की,,, झूठ के समुद्र में ,,,, कब तक बेख़ौफ़ चलेगी ..!! डूब जायेगी खुद ब खुद ही ,,,, जिस वक्त भी वह ,,, सच के किनारों से मिलेगी …

बे वक्त, बे वजह ऐसे ही मुस्कुरा देता हूं,,,, अपने आधे दुश्मनों को यूही हरा देता हु।

पुरानी शाखों से पूछो जीना कितना मुश्किल है,,, नये पत्ते तो बस अपनी अदाकारी में रहते हैं!

खुद का भी हाल देखने की,,, फुरसत नहीं है मुझे….. और वो औरो से बात करने,,, का इलज़ाम लगा रहे है……

कुछ लोग मुझे बुरा कहे तो में बुरा भी हु,,,, जरूरी तो नही सारी खुबिया मुझमे ही हो।

महफ़िल में चल रही थी,,, हमारे कत्ल की तैयारी… हम वहां पहुँचे तो बोले,,, बहुत लंबी उम्र है तुम्हारी..!

रोता वही है जिसने महसूस किया हो,,, सच्चे रिश्ते को…. वरना मतलब के रिश्तें रखने वाले को,,,, तो कोई भी नही रूला सकता…

कहते है कि पत्थर दिल रोया नही करते,,, तो फिर पहाड़ो से ही झरने क्यों बहा करते है।

ऐ सियासत… तूने भी इस दौर में कमाल कर दिया,,,, गरीबों को गरीब अमीरों को माला-माल कर दिया।

Best Urdu Poetry

We have collected some of the best urdu poetry in this section and to read best urdu poetry, stay tuned to this website. The famous urdu poetry can make your day.

जिंदगी तो बेवफ़ा है, एक दिन ठुकराएगी…मौत महबूबा है, साथ लेकर जायेगी…

दस्तक और आवाज तो कानों के लिए है…. जो रुह को सुनाई दे उसे खामोशी कहते हैं…

सर झुकाने की आदत नहीं है,,, आँसू बहाने की आदत नहीं है। हम खो गए तो पछताओगे बहुत,,,, क्युकी हमारी लौट के आने की आदत नहीं है।

क्या किस्मत पाई है,,, रोटीयों ने निवाला बनकर,,,, अमीरों ने आधी फेंक दी…. गरीबों ने आधी में ज़िन्दगी गुज़ार दी।

❛ हौसले भी किसी हकीम से कम नहीं होते हैं,,,, हर तकलीफ में ताक़त की दवा देते हैं।❜

तुम पर गुजरी तो आह,,,हम पर गुजरी तो वाह…

सारी दुनिया बोलती है बड़ा हो गया है कुछ कमाया कर,,,,, बस माँ बोलती है कमजोर हो गया है कुछ खाया कर

जली हुई रोटियों पर बहुत शोर मचाया तूमने गालिब,,, मां की जली हुई उंगलियां देख लेते तो भूख मिट जाती

लिपट कर रोयें बेटियों से,,, वो अपनी हालत पर…. जो कहेते थे विरासत के लिए,,,, बेटा जरूरी है…

बचपन में तो शामें भी हुआ करती थी,,, अब तो बस सुबह के बाद रात हो जाती है!

हाल पूछा न करे हाथ मिलाया न करे,,, मैं इसी धूप में ख़ुश हूँ कोई साया न करे

❛ जिंदगी के सफर से बस इतना ही सबक सीखा है, सहारा कोई कोई ही देता है धक्का देने को हर शख्स तैयार बैठा है ।❜

“तस्वीर” तो मिनटों में बनती है,,, पर वक्त तो “Image” बनाने में लगता है..

अंदाज़े से न नापिये किसी इंसान की हस्ती,,, ठहरे हुए दरिया अक्सर गहरे हुआ करते है।

खुद से जीतने की ज़िद है,,, मुझे खुद को ही हराना है। मैं भीड़ नही हूँ दुनिया की,,, मेरे अंदर एक जमाना है।

लाखों सदमें, ढेरों ग़म,,, फिर भी नहीं है ऑंखें नम। एक मुद्दत से रोये नहीं,,, क्या पत्थर के हो गये हम।

Best Urdu Shayari

Some of the Best Urdu Shayari is shown below and we frequently update this post on regular basis. So, keep visiting this blog for Best Urdu Shayari.

बेवफा से वफ़ा की उम्मीद मत रखना,,, लुट जाओगे दरवाज़ा खुला मत रखना। अगर जन्नत में जाने की ख़ाहिश है,,, तो माँ बाप को अपने से जुदा मत रखना।

यहाँ तहज़ीब बिकती है यहाँ फ़रमान बिकते हैं,,, जरा तुम दाम तो बदलो यहाँ ईमान बिकते हैं।

!! होते होगें लड़के तुम्हारी कहानियों में बेफिक्र,,, मैंने मेरे भाई को माँ की चोटी बनाते हुए देखा है !!

आँखोँ के परदे भी नम हो गए, बातोँ के सिलसिले भी कम हो गए. .

पता नही गलती किसकी है,, वक्त बुरा है या बुरे हम हो गए।

किसी के मुंह से न निकला मेरे दफ़्न के वक़्त…. इनपे खाक़ मत डालो ये नहाये हुए हैं….!!

हजारों अश्क़ मेरी आँखों की हिरासत में थे,,, बस कुछ याद आया और सबको जमानत मिल गई।

जो मुँह तक उड़ रही थी,,, अब लिपटी है पाँव से। बारिश क्या हुई,,,, मिट्टी की फितरत बदल गई।

फ़ासला भी ज़रूरी था, चिराग़ रौशन करते वक़्त, ये तज़ुर्बा हासिल हुआ, हाथ जल जाने के बाद…!!!

सब्र करने पर आऊं तो ‌मुड़कर भी ना देखूं,,, अभी तुमने देखा ही कहां है मेरा पत्थर होना…..!!!!!

मै उनसे बाते तो करता नही,,, पर उनकी बाते लाजवाब करता हूँ। पेशे से शायर हू यारो,,,, अल्फाजो से दिल का ईलाज करता हूँ।।

माना कि जिंदगी से बहुत प्यार है मगर,,, कब तक रखोगे कांच के बर्तन संभाल के।

कितना खोफ होता है शाम के अंधेरो में,,, पूछो उन परिंदो से जिनके घर नही होते।

मैं झुका गया तो वह सजदा समझ बैठे,, मैं तो इंसानियत निभा रहा था,, वो खुद को ख़ुदा समझ बैठे…

पता नही होश में हूँ,,, या बेहोश हूँ मै। पर बहुत सोच समझकर,,, खामोश हूँ मै।

रुतबा तो खामोशियों का होता है,,, अलफ़ाज़ तो बदल जाते हैं लोग देख कर।

“पता नही होश मे हूँ या बेहोश हूँ मैं…. “पर बहूत सोच समझ कर खामोश हूँ मैं..!

यूँ तो कोई शिकायत नहीं मुझे मेरे आज से,,,, मगर कभी-कभी बीता हुआ कल बहुत याद आता है..

Urdu Shayari On Life

You will feel motivated by reading Urdu Shayari On Life. Urdu Shayari On Life explains the behavior of life according to the situations.

मुझमे ओर किस्मत में हर बार बस यही जंग है मैं उसके फैसले से तंग हु वो मेरे होसलो से दंग है !

जाने मेरी मंजिलो के रास्ते कौनसे है,,, चल तो रहे है कदम पर दायरे कौनसे है,,, क्या ढूँढती है नज़र हर पल,,, कौन अपने और पराये कौन से है।

“डर मुझे भी लगा फांसला देख कर,,, पर मैं बढ़ता गया रास्ता देख कर। खुद ब खुद… मेरे नज़दीक आती गई मेरी मंज़िल,,, मेरा हौंसला देख कर।”

बड़ी अजीब सी है शहरों की रौशनी,,, उजालों के बावजूद चेहरे पहचानना मुश्किल है।

ये शिकायतों का दौर देखता हूँ,,, तो थम सा जाता हूँ। लगता है उम्र कम है,,, और इम्तिहान बहुत है।

नहीं आता कोई परिंदा अब,,, किसी की छत पर दाना चुगने। इस दौर में परिंदे भी,,, ऐतबार नहीं करते इन्सान की जात पर।

दुनिया की हर चीज़,,, ठोकर लगने से टूट जाती हैं। एक कामयाबी ही है,,,, जो ठोकर खाकर ही मिलती हैं।

मेरी खामोशियों में भी,,, फसाना ढूँढ लेती है… बड़ी शातिर है दुनिया,,, मजा लेने का बहाना ढ़ूढ लेती है…

दर्द भी वही देते हैं ,,,, जिन्हे हक दिया जाता हो… वर्ना गैर तो धक्का लगने पर भी ,,,, माफी माँग लिया करते हैं…

कोई बेबस, कोई बेताब, कोई चुप, कोई हैरान,,, ऐ जिंदगी, तेरी महफ़िल के तमाशे ख़त्म नहीं होते।

छोड़िए शिकायत ..शुक्रिया अदा किजिये,,,, जितना है पास पहले उसका मजा लीजिये…

ज़िंदगी बैठी थी अपने हुस्न पे फूली हुई,,,, मौत ने आते ही सारा रंग फीका कर दिया।

फकीरों की सोहबत में बैठा कीजिए साहब,,, बादशाही का अंदाज खुद ब खुद आ जायेगा…

चेहरे की हंसी को …… दिल की खुशी समझ लेते हैं लोग,,,, काश ! कुछ पल रुककर ……. किसी ने दिल का हाल भी समझा होता।

आंखों में आंसू आए तो खुद ही पोंछ लेना,,,, दुनिया आएगी पोंछने तो सौदा करेगी……

सांसे खर्च हो रही है,,, बीती उम्र का हिसाब नहीं,,,, फिर भी जीए जा रहें हैं,,, तुझे, जिंदगी तेरा जवाब नहीं!

You must be feeling good after reading Urdu Shayari. Stay tuned to this post for latest urdu shayari as we update the post frequently. Share Urdu Shayari with friends, family and love according to the situation.

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *